मुंबई की सड़कों से गायब हुईं काली-पीली टैक्सियां, 6 दशक बाद कहां गया उनका जादू?

मुंबई की सड़कों से गायब हुईं काली-पीली टैक्सियां

मुंबई, 30 अक्टूबर 2023: मुंबई की सड़कों पर आज से काली-पीली टैक्सियों का सफर समाप्त हो गया। 6 दशकों से मुंबई की पहचान रही इन टैक्सियों को नई तकनीक और सुरक्षा मानकों के चलते बंद कर दिया गया है।

काली-पीली टैक्सियां मुंबई के इतिहास का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रही हैं। इन टैक्सियों ने मुंबई को एक वैश्विक शहर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। ये टैक्सियाँ मुंबई की संस्कृति और पहचान का भी एक हिस्सा थीं।

काली-पीली टैक्सियों का इतिहास

काली-पीली टैक्सियों का इतिहास 1964 से शुरू होता है। इस साल, टाटा मोटर्स ने प्रीमियर पद्मिनी नामक एक नई कार लॉन्च की। इस कार को मुंबई के लिए एक टैक्सी के रूप में डिज़ाइन किया गया था।

काली-पीली टैक्सियां
काली-पीली टैक्सियां

प्रीमियर पद्मिनी कार को काले और पीले रंग में रंगा गया था। इस कारण, इन टैक्सियों को काली-पीली टैक्सी के नाम से जाना जाने लगा।

काली-पीली टैक्सियाँ जल्द ही मुंबई की सड़कों पर एक आम दृश्य बन गईं। ये टैक्सियाँ अपनी मजबूती, टिकाऊपन और किफायतीता के लिए जानी जाती थीं।

काली-पीली टैक्सियों का बंद होना

समय के साथ, काली-पीली टैक्सियों की तकनीक पुरानी होती जा रही थी। साथ ही, इन टैक्सियों में सुरक्षा मानक भी नए टैक्सियों की तुलना में कम थे। इन कारणों से, मुंबई सरकार ने काली-पीली टैक्सियों को बंद करने का फैसला किया।

सरकार ने इन टैक्सियों के स्थान पर नई टैक्सियाँ लाने का फैसला किया है। ये नई टैक्सियाँ नई तकनीक और सुरक्षा मानकों से लैस होंगी।

काली-पीली टैक्सियों की यादें

काली-पीली टैक्सियाँ मुंबई के लोगों के लिए कई यादें लेकर आई हैं। कई लोगों ने अपनी पहली नौकरी के लिए या अपने परिवार के साथ यात्रा के लिए इन टैक्सियों का इस्तेमाल किया है।

1 दिन में 20000 कमाने के 10 तरीके

फेसबुक से हर रोज 5000 रुपये कैसे कमाए?

काली-पीली टैक्सियाँ मुंबई की संस्कृति और पहचान का भी एक हिस्सा थीं। इन टैक्सियों को अक्सर फिल्मों और टीवी शो में दिखाया जाता था।

काली-पीली टैक्सियों का बंद होना मुंबई के लिए एक ऐतिहासिक घटना है। ये टैक्सियाँ मुंबई के इतिहास का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रही हैं।

Leave a Comment